Dainik Bhaskar Hindi News

सबसे ज्यादा डॉक्टरों वाला है ये देश, पेट्रोल के लिए किया था डॉक्टर्स का सौदा

dainikbhaskar.com | Nov 30,2016 12:05 AM IST
टरनेशनल डेस्क.क्यूबा के पूर्व प्रेसिडेंट फिदेल कास्त्रो का शनिवार को 90 साल की उम्र में निधन हो गया था। इसी के चलते क्यूबा मीडिया की सुर्खियों में है। अब तक हम आपको कास्त्रो और क्यूबा से जुड़े कई इंटरेस्टिंग फैक्ट्स बता चुके हैं। इसी क्रम में आज हम क्यूबा के डॉक्टर्स की बात कर रहे हैं,क्योंकि दुनिया में क्यूबा ही क्यूबा सबसे ज्यादा डॉक्टर्स वाला देश है। यहां प्रति 70 व्यक्ति के लिए एक डॉक्टर है।क्यूबा ने पेट्रोल के लिए किया था डॉक्टर्स का सौदा...
 
-अमेरिका ने क्यूबा क्रांति(1960)के बाद से ही क्यूबा पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे। 
-इससे दुनिया के कई देशों से क्यूबा का आर्थिक व्यवहार भी खत्म हो गया था।
-इस दौरान,क्यूबा को सिर्फ सोवियत यूनियन का ही सहारा था।
-लेकिन,1991 में सोवियत यूनियन के टूट गया,जिसका सीधा असर क्यूबा पर हुआ।
-रूस को छोड़कर सोवियत यूनियन के लगभग सभी देशों क्यूबा से संबंध खत्म कर लिए।
-इससे क्यूबा की आर्थिक स्थिति खराब हो गई। सप्लाई बंद होने से देश में पेट्रोल की किल्लत शुरू हो गई।
-वहीं,दूसरी तरफ क्यूबा का सहयोगी और पड़ोसी मुल्क वेनेजुएला डॉक्टर्स की कमी से जूझ रहा था।
-इसी के चलते क्यूबा और वेनेजुएला में पेट्रोलियम पदार्थ के बदले डॉक्टर्स का समझौता हुआ।
-समझौते के तहत क्यूबा ने करीब 30 हजार डॉक्टर्स वेनेजुएला भेजे,जिनका काम वहां क्लीनिक खोलने से लेकर डॉक्टर्स तैयार करना था।
-इसके बदले में वेनेजुएला ने करीब तीन साल(2003 से 2006)तक 90 हजार बैरल पेट्रोल की सप्लाई क्यूबा में की।
-बाद में इनमें से हजारों की संख्या में क्यूबा के डॉक्टर्स वेनेजुएला में ही स्थायी रूप से बस गए। 
2 of 6
3 of 6
देश छोड़कर भाग गए थे डॉक्टर्स
 
1960 में फिदेल कास्त्रों ने सशस्त्र क्रांति कर वर्तमान प्रेसिंडेंट फुल्गेन्सियो बतिस्ता को सत्ता से बेदखल कर उनकी जगह ले ली थी। इसका अमेरिका ने सख्त विरोध किया और क्यूबा पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए। इससे क्यूबा की अर्थव्यवस्था चरमरा गई। इसी के चलते फिदेल ने अमेरिका के दुश्मन देशों से रिश्ते बनाने शुरू कर दिए। इसमें अल्जीरिया भी शामिल था। 1963 में अल्जीरिया भयंकर महामारी से जूझ रहा था। फिदेल ने अपने देश से हजारों की संख्या में डॉक्टर्स भेजे। इससे डॉक्टर्स को देश छोड़ने का मौका मिल गया। सेकंड वर्ल्ड वॉर के चलते पीड़ित देशों में अब भी डॉक्टर्स की भारी डिमांड थी और यह क्यूबा के डॉक्टरों के लिए अच्छी कमाई और तरक्की करने का मौका था। इसी के चलते डॉक्टर्स देश छोड़कर भागने लगे। 1965 से 1970 के बीच करीब 6 हजार डॉक्टर्स देश छोड़कर भाग चुके थे।
4 of 6
डॉक्टर्स को देश छोड़ने से पहले लेनी पड़ती है परमिशन
1965 के बाद क्यूबा में हरित क्रांति की शुरुआत हुई। इसके साथ ही नैचुरोपैथी को भी बढ़ावा दिया गया। इसके चलते देश में डॉक्टर्स की संख्या तेजी से बढ़ने लगी। वर्ष 2000 तक क्यूबा नैचुरोपैथी डॉक्टर्स का हब बन चुका है, लेकिन देश की माली हालत ठीक न होने के चलते डॉक्टर्स का पलायन जारी रहा। क्यूबा मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट के मुताबिक, 1990 से 2004 के दरमियान ही करीब 1 लाख डॉक्टर क्यूबा छोड़कर अमेरिका सहित आसपास के कई देशों में पलायन कर चुके थे। इसके चलते सरकार को डर सताने लगा कि अगर डॉक्टर्स का पलायन जारी रहा तो देश में ही डॉक्टरों की कमी हो जाएगी। आखिरकार 2005 में सरकार ने डॉक्टरों के देश छोड़ने पर बैन लगा दिया। इसीलिए अब यहां के डॉक्टर्स को देश छोड़ने से पहले सरकार की अनुमति लेनी पड़ती है।
5 of 6
नैचुरोपैथी ने दी क्यूबा को पहचान
1960 से 2000 के बीच क्यूबा ने नैचुरोपैथी में इतिहास रच दिया था। क्यूबा ने नैचुरोपैथी को देश की खराब अर्थव्यवस्था के लिए ही चुना था। क्योंकि प्राकृतिक चिकित्सा एक सस्ता विकल्प था। इसके लिए देश भर में औषधीय पेड़-पौधे रोपे गए और नैचुरोपैथ डॉक्टर्स की तादात बढ़ती चली गई। इसका असर यह हुआ कि यहां अन्य देशों के लोग भी इलाज कराने आने लगे। कई देशों से क्यूबा के डाक्टर्स की डिमांड होने लगी। इसके चलते क्यूबा ने नैचुरोपैथी की दुनिया में अपनी कामयाबी के झंडे गाड़ दिए। अब भी यहां दुनिया भर से हजारों की संख्या में मरीज इलाज करवाने पहुंचते हैं।
6 of 6
इन देशों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं क्यूबा के डॉक्टर्स
- वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की रिपोर्ट के अनुसार, इस समय 37 हजार से अधिक डॉक्टर्स दुनिया के 77 देशों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।
- 2013 में क्यूबा ने 4 हजार डॉक्टर्स ब्राजील भेजे थे, जिसके बदले में क्यूबा को 270 डॉलर मिलियन (करीब 18 अरब रुपए) की कमाई हुई। 
- इबोला वायरस की समस्या से जूझ रहे वेस्ट अफ्रीका के रिपब्लिक ऑफ कांगो में क्यूबा के करीब 600 डॉक्टर्स हैं।
- क्यूबा के पड़ोसी मुल्क वेनेजुएला में 1,200 डॉक्टरों की टीम अपनी सेवाएं दे रही हैं। 
- अल-सल्वाडोर, माली और ब्राजील में क्यूबा के करीब 7,400 डॉक्टर्स हैं।
DB POLL

RECOMMENDED

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे!

Web Title: Venezuela nearly three years (2003 2006) from 90 thousand barrels in gasoline supplies to Cuba.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)